Wisdom from the Young and the Disabled: In Conversation with Priyank Sangoi

A portrait of Priyank Sangoi

(यह इंटरव्यू हिंदी भाषा में भी उपलब्ध है. हिंदी में पढ़ने के लिए नीचे की ओर स्क्रॉल करें)

In their article, ‘Listening Together’ Shamin Mehrotra and Rucha Neglikar write that inclusive education is not about charity or sympathy but them their presence can lead to positive experiences for all students and fellow young people. In their journey, they have discovered that teachers are interested in supporting diverse learning but do not have strategies for the same. And to facilitate this education, @disabilityaware_ talks about the Universal Design for Learning (UDL) which is, “a framework to improve and optimize teaching and learning for all people based on scientific insights into how humans learn.”

Priyank Sangoi is a 20-year old who has a beautiful dream to become a successful baker and open a café with beautiful people. Priyank was diagnosed with learning disability in seventh grade. Priyank describes himself to be a person who, “doesn’t know to step back and always look forward.”In this interview, Priyank talks about his journey of navigating through school with a learning disability, while he informs us of a thing or two about what support looks like in these systems.  

Yashna: Can you tell me about your journey with baking? How did it all start?

Priyank: I love baking pasteries or donuts and many more things in desserts. Been baking for 4 – 5 years.

I don’t know it all started. But I would always go to places that have good desserts. I go to mostly places that are famous for desserts. I love fusion desserts. If people tell me that there’s this place that has fusion desserts, I’d go and check it out. And then (snaps fingers) and tell myself, “I can make this. I am going to try.”

Yashna: What’s one recipe you tried out and you were very proud of?

Priyank: I recently made cookie cake but made it out of aata (wheat) and not maida. It is a healthier option but in goes lots and lots of butter also so it’s not that healthy.

I just wanted to try making it, just take one shot at it. And it tasted very well.

Yashna: Priyank, you told me recently that you’re really thinking about your career a lot. Is baking also a part of this career journey?

Priyank: I hope to become a baker some day.

When the lockdown happened, I was thinking about what to do. What will be my career options in future. I saw an Instagram post of an ad of becoming a chef and it’s in Oshiwara. I called them, emailed them that I am interested and want an admission over there. They arranged for a telephonic interview for me and I managed to clear the interview. I also got an admission and had to give some basic amount to enrol. But my mom first asked me to the BCom for two years. That take your BCom degree and then you do whatever you want. So I am a bit confused at this point as to what to do because I feel I can simultaneously do both but my mom doesn’t seem to agree. I don’t want to keep studying forever, you know?

Chocolate Almond Fudge made by Priyank

Last year, I worked at a shoe trading company. There’s a local newspaper of our Gujarat called Khabarpatrika. There was an advertisement that if anyone is available for internship. There were many companies who were offering internships and then I was selected for the internship mentioned. I have worked there for ten months. But the office then shifted to Bhiwandi and it was then too difficult for to travel so then I had to stop interning.

At this point, careerwise I am still confused as to what to do now but there’s a lot of confidence in me that I’ll figure something out. I feel confident about baking journey. I bake my cakes really well, of course there are lots of things to still learn which will come with formal learning, I think.

I have a dream to open a café some day. There’s a café in delhi run by the deaf community and also one in Mumbai. These places have buttons on the café table and when you press the buttons, it lights up and notify the servers of an order. And these bulbs that light up have a number to them and the server will come to take your order. The menu cards were in sign language and verbal language and people had to order using the signs.

Yashna: What has thinking about your career options or studies looked like over the years, after the learning disability diagnosis?

Priyank: So, I was diagnosed with LD at seventh standard. At that time, I didn’t know anything about what is LD. Till 9th standard I was learning regular subjects. In 10th class, I changed two subjects like Marathi and math. Instead of Marathi, I did book binding and instead of math, I did 7th standard ka math. With me, there was one more student along with me in this. I felt a little ashamed because I was doing math of 7th standard but having one more student with me, it felt a little better. That, “he’s there for me”.

My school teacher was also supportive of me. Like even for the other students, book binding was a new subject even though they had already done math for seventh standard. Afterwards in 11th standard it became very basic. Because there were more students with learning difficulties in the class. And after I met them I felt like “it’s ok” about my learning disability.

Even before that, I used to be ashamed but my friends were like, “it doesn’t matter to us”.

My teachers were like very supportive and my principal would ask me if I was understanding things, that if I need a change of teacher. We also had a very friendly relationship. They also hired a counsellor for myself and the other student. And then the counsellors started supporting other students who had some difficulties. When I had once visited Somaiya college with my brother, I did think of wanting to get into this college and wanted to study to get into the college. But did not think of baking then.

Yashna: In what ways was it important to have the school, have your friends circle support you in your learning?

Priyank: It was very important to me. When I was diagnosed, I did not even know. When you grow up and you slowly get to know, it feels like shattered from the inside and it means a lot then to get a support like this.

Earlier what was shattering was to not learn math from tenth standard but instead from seventh standard. Nobody ever pointed it out to me. There were a couple of students who definitely did tease me but only in the very beginning of realizing that I was getting this support. But even then those initial jabs used to hit me as to, “oh no he said that about me!”. But to be fair, there weren’t a lot of people telling me this.

I used to go to this private tutor. And people would study different things. They would have different worksheets than me. At tenth, you have separate textbooks for algebra and geometry but for me, since I was doing seventh standard textbook, it was a length of a shortbook. And I would sit with students from seventh standard for math.

There were teachers who were really supportive and I had a very good friends circle. Also having Sanket around made a lot of difference to me. He would tell me, “It’s ok to be a little out of the world.” Friends would also reassure me saying that during college, everyone would study the same subjects so no one would even know. And that there won’t be math in college.

Yashna: Are there specific ways in which you were supported and what did that support make possible? Are there ways in which you wish you were supported?

Priyank: I don’t know if I could’ve been supported in any other way. But initially at least, it’s good to extend the support for any student who has difficulties. That boosts a lot of confidence and power for the student. The school would support me during my exams a lot. The school would send me reminder message for it with timings and venues. There would be messages and phone calls. And even the centre people were told by the school to support me.

I wish no matter what the diagnosis, people should get supported not only for the difficulty but also to grow and get out of a comfort zone. Then I feel anyone will be able to do anything. I feel I am still in my comfort zone and I wish sometimes I stepped out.

At least during the initial stages, it’s good to be told about your diagnosis and that you are a little different from the other kids. Initially it’s good to give a lot of support but also to support the kid to grow outside of the present situation.

Yashna: What are some things you want to tell children, younger people with disabilities, any advices from you?

Priyank: To be clear about the fact that even though my school, my friends circle was supportive, the outer world is still not inclusive, supportive. Infact, for us, it’s good to prepared for less support. That’s how it is.

Yashna: What are some things you want to tell the education system, society or the world on how they could support children with learning difficulties?

Priyank: To the society, to the education system, I just want to ask them to focus and build on skills of children rather than their grades. I think small-small steps like asking the children themselves what works, if they’re comfortable with the subjects, would you need extra support, these things go a long way. It’s also not good treat like out of the world special. That makes kids also feel weird.

Some disabilities are visible and some are not. Like mine is invisible. We are either specially treated or are completely excluded. We aren’t treated as everyone is. We want to be treated as everyone else but with a little more support. I want to have that café just so people with different disabilities could build the needed environment. Such cafes can be an example.

Yashna: Thank you for your time, Priyank!

Yashna Vishwanathan is a Mental Health Worker at Ummeed Child Development Center and she works with children and young adults experiencing or at risk of disabilities and their families.



प्रियांक की तस्वीर

अपने article, ‘Listening Together’ में, शामिन मेहरोत्रा और रुचा नेगलिकार लिखते हैं कि समावेशी (inclusive) शिक्षा का आधार दया अथवा सहानुभूति नहीं होता बल्कि ये मानता है, कि डिसेबल्ड बच्चों और उनके अनुभवों का सिस्टम में होना, अन्य बच्चों के पॉजिटिव अनुभवों में सहयोग देते हैं. उनके सफर में उन्होंने ये देखा है कि टीचर्स की  लर्निंग में विभिन्नता लाने की उम्मीद होती है परन्तु उससे जुड़ी कुशलताओं से परिचित नहीं हैं.

इस प्रकार की शिक्षा को @disabilityaware_ – Universal Design for Learning (UDL) के ढाँचे के बारे में बताते हैं जो लर्निंग में वैज्ञानिक समझ लेकर हर किसी को सुधरी और ऑप्टिमाइज़ लर्निंग का अनुभव मिले. इस इंटरव्यू में, प्रियंक अपने लर्निंग डिसेबिलिटी और स्कूल का अनुभव बताते हुए, हमें बताते हैं कि लर्निंग डिसेबल्ड बच्चों के लिए सपोर्ट कैसा दिख सकता है.

प्रियंक संगोई 20-साल के हैं जिनका एक खूबसूरत सपना है, एक कामयाब बेकर बनने और खूबसूरत लोगों के साथ एक कैफे खोले. सातवीं की कक्षा में प्रियंक को लर्निंग डिसेबिलिटी का डायग्नोसिस दिया गया था. प्रियंक मानते हैं कि वो एक ऐसे व्यक्ति हैं, “जिन्हें सिर्फ आगे बढ़ना है और पीछे मुड़कर देखना नहीं है”.

याशना: क्या आप अपने बेकिंग के सफर के बारे में बता सकते हैं? इसकी शुरुआत कैसे हुई थी?

प्रियांक: मुझे पेस्ट्रीज, डोनट्स और बहुत से मिठाई बनाना बहुत अच्छा लगता है? मैं 4 – 5 साल से बेक कर रहा हूँ. मुझे याद नहीं कैसे इसकी शुरुआत हुई थी. पर मुझे याद है मैं उसी जगह ज़्यादा जाता था जहाँ मिठाइयाँ अच्छी मिलती हैं. जो मिठाइओं के लिए फेमस है. मुझे फ्यूज़न मिठाइ बहुत पसंद है, कोई मुझे बोलेगा यार यहाँ फ्यूज़न मिठाई मिलती है, मैं उस जगह में जाता था और सोचता था कि ये मैं ट्राई करूँगा.

याशना: वह कौनसी रेसिपी है जिसे लेकर आप प्राउड हैं?

प्रियांक: मैंने हाल ही कुकी केक बनायी थी जो मैंने मैदे के बदले आटे से बनायी थी. वो थोड़ा है हैल्थी ज़रूर पर उसमें काफी घी भी डलता है, तो इतना भी हैल्थी नहीं था.

मुझे बस एक बार ट्राई करना था और उसका बहुत अच्छा स्वाद आया.

याशना: प्रियांक, आपने हाल ही में बताया कि आप अपने करियर के बारे में काफी सोच रहे हो. क्या बेकिंग इस करियर का हिस्सा रहा है?

प्रियांक: मुझे किसी दिन बेकर बनना है.

जब ये लॉकडाउन शुरू हुआ, मैं सोचता रहता था कि क्या करूँ. मेरे करियर के क्या ऑप्शंस होंगे. मैंने इंस्टाग्राम में एक शेफ बनने ad. देखा जो ओशिवारा, अँधेरी में है. मैंने उन्हें कॉल लगाया, ईमेल किया कि मुझे वहाँ एडमिशन करवाना है. उन्होंने फ़ोन के द्वारा मेरा इंटरव्यू लिया और मैंने वह इंटरव्यू क्लियर भी कर लिया था. मेरा एडमिशन भी हो गया था और दाखिला कराने के लिए कुछ पैसे भरने थे. पर मम्मी का मानना था कि मैं बी-कॉम पहले कर लूँ, फिर बी कॉम की डिग्री मिलने के बाद जो करना हो कर सकता हूँ. तो इस वक़्त मैं थोड़ा दुविधा में हूँ क्यूँकि मुझे लगता है मैं दोनों साथ में कर पाऊंगा, पर मम्मी को नहीं लगता. मुझे हमेशा बस पढ़ाई में नहीं लगे रहना है.

प्रियांक की बनायी हुई चॉकलेट आलमंड फड्ज

पिछले साल, मैंने एक शू-ट्रेडिंग कंपनी में काम किया था. गुजरात की लोकल अख़बार, खबरपात्रिका में इंटर्नशिप का एड आया था, मैंने अप्लाई करा और मेरा सिलेक्शन हो गया. बाद में उनका ऑफिस भिवंडी में चला गया तो मुझे नौकरी छोड़नी पड़ी क्यूंकि इतना दूर मैं ट्रेवल नहीं कर पाता.

करियर को लेकर इस समय तो मैं काफी दुविधा में हूँ पर मेरे में कॉन्फिडेंस है कि मैं कुछ कुछ कर लूंगा. मुझे बेकिंग के बारे में काफी कॉंफिडेंट महसूस होता है. मुझे केक बहुत अच्छा बनाना आता है और ऐसी कई चीज़ें हैं जो बेहतर हो सकती हैं, पर उसमें ट्रेनिंग करके मैं सीख लूंगा.

मेरा एक सपना है कि मैं एक दिन कैफे खोलूं. दिल्ली में डेफ समुदाय एक कैफे चलाता है और ऐसा मुंबई में भी है. इन जगहों पे कैफे के टेबल पर बटन्स होते हैं, और जब आपके टेबल की बत्ती जलती है, जिसका एक नंबर भी होता है, तो सर्वर आपका आर्डर लेने टेबल पे आ जाते हैं. खाने का मेनू कार्ड sign language में था और लोगों को अपने खाने का आर्डर sign से करना था.

याशना: लर्निंग डिसेबिलिटी के डायग्नोसिस के बाद, आपका करियर और पढ़ाई को लेकर इतने सालों में कैसा रहा है?

प्रियांक: मेरा लर्निंग डिसेबिलिटी का डायग्नोसिस सातवी कक्षा में हुआ था, जब मुझे उसके बारे में कोई जानकारी नहीं थी. नौवीं तक मैं रेगुलर सब्जेक्ट्स पढ़ रहा था. दसवीं में मैंने दो सब्जेक्ट्स बदले थे – मराठी और गणित. मराठी की जगह मैंने बुक-बाइंडिंग पढ़ी और दसवीं के गणित के बदले मैं सातवीं का गणित पढता था. और इसमें मेरे साथ कक्षा का एक और छात्र भी था. थोड़ी शर्मनाक बात लगती थी कि मैं सातवीं का गणित पढ़ रहा था पर एक और छात्र होने के कारण मुझे थोड़ा बेहतर लगता था. लगता था कि “हाँ वो मेरे साथ है”.

मेरे टीचर्स भी मेरी बहुत सपोर्ट करते थे. और बाकी छात्रों के लिए भी बुक-बाइंडिंग नया सब्जेक्ट था पर सातवीं का गणित उनके लिए नया नहीं था. ग्यारवीं में पढाई काफी बेसिक हो गई थी क्यूँकि कक्षा में बहुत बच्चे ऐसे थे जिन्हे लर्निंग में दिक्कतें थी. उनसे मिलकर अपने डिसेबिलिटी के बारे में लगा कि, “कोई बात नहीं।”

उसके पहले भी, मुझे शर्मिंदगी महसूस होती थी पर मेरे दोस्त मुझे कहते थे, “हमें कोई फ़र्क नहीं पड़ता”.

मेरे टीचर्स भी बहुत सपोर्ट करते थे; मेरे प्रिंसिपल मुझे पूछते थे कि क्या मैं चीज़ें समझ पा रहा हूँ, क्या मुझे दूसरे टीचर की ज़रूरत है? हमारा बहुत फ्रेंडली रिश्ता था. उन्होंने मेरी और मुझ जैसे बच्चों की मदद के लिए काउंसलर भी रखा था. जब मैं अपने भाई के साथ सोमैया कॉलेज गया, मुझे उसी कॉलेज में दाखिला लेना था और उसके लिए पढता था. पर बेकिंग को लेकर नहीं सोचा था.

याशना: इस तरह का स्कूल का, दोस्तों का उस समय पर सपोर्ट होना आपके लर्निंग के लिए क्यों ज़रूरी था?

प्रियांक: मेरे लिए बहुत ज़रूरी था. मेरा जब डायग्नोसिस हुआ, तो मुझे पता भी नहीं था. जब आप बड़े होने लगते हो और धीरे-धीरे पता चलता है, थोड़ी अंदर से हिलाने वालीfd=/ फीलिंग जाती है और तब ये सपोर्ट बहुत माईने रखता है.

शुरू में ये बहुत हिलाने वाली बात लगती थी कि मैं गणित दसवीं की नहीं पर सातवीं की पढ़ रहा था. किसी ने इस बात को लेकर कुछ बोला नहीं. एक-दो लोग ज़रूर थे जो चिढ़ाते थे पर वो बस शुरू-शुरू में थे. पर वो जब कहते थे तो लगता था, “अरे! मेरे बारे में ऐसा कह दिया!” पर ऐसा नहीं था कि बहुत लोगों ने कहा था.

मैं एक प्राइवेट ट्यूटर के पास जाता था. और बाकी छात्र मेरे से अलग सब्जेक्ट्स पढ़ते हैं. उनके पास मेरे से अलग वर्कशीट्स होते थे. दसवीं में अलजेब्रा और ज्योमेट्री की अलग किताबें होती थी और मेरी सातवीं की किताब बस एक छोटी सी बुक थी. और मैं सातवीं के बच्चों के साथ गणित पढ़ने बैठता था.

कुछ टीचर्स ज़रूर थे जो मेरी बहुत सपोर्ट करते थे और मेरे दोस्तों का ग्रुप अच्छा था. संकेत का होना भी काफी फ़र्क लाता था. वो मुझसे कहता था कि, “हमारे तरीके दुनिया के तरीकों से बिलकुल अलग हो सकते हैं”. दोस्त भी मुझे सांत्वना देते थे कि कॉलेज में तो सब एक जैसे सब्जेक्ट्स पढ़ा करेंगे तो किसी को पता भी नहीं चलेगा. और कॉलेज में गणित भी नहीं होगा.

याशना: क्या ऐसे कोई तरीकें हैं जिससे आपको सपोर्ट मिलता था? इस सपोर्ट से क्या मुमकिन हो पाया? और क्या ऐसी अन्य चीज़ें हैं जो आप सोचते हैं कि सपोर्ट के लिए हो सकता था?

प्रियांक: मुझे नहीं पता मेरा और किस तरह से सपोर्ट कर सकते थे. पर शुरू में कम से कम, जिस भी छात्र को लर्निंग में कठिनाइयाँ आती है, उसे सपोर्ट मिलना चाहिए. इससे छात्र का कॉन्फिडेंस और पावर बढ़ता है. स्कूल मेरा परीक्षा के समय में बहुत सपोर्ट करता था. स्कूल मुझे परीक्षा का समय, जगह याद दिलाने के लिए मैसेज और फोन कॉल किया करता था. सेन्टर के लोगों को भी बताया गया था कि मुझे सपोर्ट दिया जाए.

मैं मानता हूँ कि डायग्नोसिस चाहे कुछ भी हो, लोगों को उनकी दिक्कतों के लिए ही नहीं बल्कि एक कम्फर्ट ज़ोन (comfort zone) से बहार निकलने के लिए भी सपोर्ट मिलना चाहिए. अगर ऐसा होगा तो सभी सब कुछ कर पाएंगे. मुझे अपने बारे में लगता है कि मैं अभी भी काफी हद तक कम्फर्ट ज़ोन में हूँ और सोचता हूँ इससे बहार निकलना चाहिए. शुरू-शुरू में ज़रूरी है सपोर्ट का होना और बता देना बच्चे को उसके डायग्नोसिस के बारे में और ये कि तुम बस बाकी बच्चों से थोड़े अलग हो पर ये भी ज़रूरी है कि उसके वर्तमान स्थिति से बहार बढ़ने के लिए सपोर्ट करना.

याशना: आप अन्य डिसेबल्ड बच्चों, युवाओं को क्या कहना चाहेंगे, क्या सुझाव देना चाहेंगे?

प्रियांक: इस बात को लेकर क्लैरिटी रखना कि मेरा स्कूल, मेरे दोस्त सुप्पोर्टीवे होते हुए भी, बाहरी दुनिया इतना सुप्पोर्टिव नहीं रहेगी. बल्कि काम सपोर्ट से काम चलाने के लिए मन बनाना जौरी हो जाता है. चीज़ें ऐसी ही हैं.

याशना: आप एजुकेशन सिस्टम, समाज और दुनिया को क्या सुझाव देना चाहते हैं कि वह लर्निंग डिसेबल्ड बच्चों को कैसे सपोर्ट करें?

प्रियांक: समाज और एजुकेशन सिस्टम से मैं चाहूंगा कि बच्चों की कुशलताओं पर फोकस करें नाकि उनके मार्क्स पर. मेरे ख्याल से छोटे-छोटे कदम जैसे कि बच्चों से पूछना कि उन्हें क्या जमेगा, क्या वह सब्जेक्ट्स को लेकर कम्फर्टेबल (comfortable) हैं, क्या एक्स्ट्रा सपोर्ट की ज़रूरत होगी, इन चीज़ों का बहुत महत्व है. और ये भी अच्छा होता है कि बच्चों को ज़रूरत से ज़्यादा स्पेशल ट्रीट करें. ये चीज़ बच्चों को अजीब महसूस करवाती है.

कुछ डिसेबिलिटी अदृश्य और दृश्य होते हैं. जैसे मेरी डिसेबिलिटी दिखाई नहीं देती. या तो हमें स्पेशल ट्रीटमेंट मिलता है या तो हमें निकाल दिया जाता है. हमें दूसरों की तरह ट्रीट नहीं किया जाता है. हम बस चाहते हैं कि हमें दूसरों की तरह ही ट्रीट करा जाए और थोड़े सपोर्ट के साथ. मुझे मेरा कैफे वैसा ही चाहिए कि जिनको भी डिसेबिलिटी है वो ऐसा सपोर्ट वाला  वातावरण बना पाएं.एक ऐसा कैफे हमारे लिए उदाहरण बन सकता है.

याशना: शुक्रिया, प्रियांक, हमारे साथ अपना समय बिताने के लिए.

याशना विश्वनाथन उम्मीद चाइल्ड डेव्हलपमेंट सेन्टर में एक मानसिक स्वास्थ्य कार्यकर्ता हैं. उनका काम डिसेबल्ड बच्चों और युवाओं, और उनके परिवारों के साथ है.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s